इन अजीब डाइट प्लान को अपनाकर आप भी करे अपना वजन कम

इन अजीब डाइट प्लान को अपनाकर आप भी करे अपना वजन कम

आजकल अगर किसी को वजन घटाना होता है तो अलग अलग तरह के डाइट प्लान फॉलो करते है। कुछ लोगो के लिए वजन घटाना बहुत  ही आसान सी बात होती है लेकिन ऐसे कई लोग है जिन्हे वजन घटाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है। जो लोग अपने बढ़ते हुए वजन से परेशान है वो कुछ अलग अलग तरीके का डाइट प्लान बनाते है अपने ही हिसाब से। ऐसे में बहुत से नए नए डाइट ट्रेंड सामने आते रहते है। डाइट प्लान समय समय से साथ में बदलते रहते है। आइये जानते है अब तक का सबसे अजीब डाइट ट्रेंड क्या रहा है।

बेबी फूड डाइट

इसे अपनी डाइट में शामिल करने का मतलब है खाने में बहुत ही कम कैलोरी को लेना। यह डाइट का ऐसा प्रकार है जिसमे लोग अपने खाने की जगह बेबी फ़ूड खाना पसंद करते है। बेबी फ़ूड को वो स्नैक्स के तौर पर इस्तेमाल करते है।

जूस डाइट

जूस डाइट में किसी भी तरह का सॉलिड फ़ूड शामिल  नहीं होता है। यह ऐसी डाइट है जिसमे लोग सिर्फ फलों और सब्जियों के जूस पीते है एवं कुछ भी नहीं खाते है। वजन घटाने के लिए यह सबसे लोकप्रिय डाइट है।

शीशे के सामने खाना खाना

जब कोई भी शीशे के सामने खुद को खाता हुआ देखता है तो बहुत अजीब लगता है। जो कोई इंसान इस डाइट को फॉलो करता है उनके अपने ही तर्क है। जब कोई भी शीशे के सामने खाना खाता है तो उन्हें पता लग जाता है कि वह कितना खा रहे है और डाइट की मात्रा को भी कम कर देता है।

डार्क ब्लू कलर की प्लेट में खाना

ऐसा माना जाता है कि जब कोई डार्क ब्लू कलर की प्लेट में खाना खाता है तो जल्दी से भूख नहीं लगती है। जो लोग इस डाइट को फॉलो करते है उनका कहना है कि लाइट कलर की प्लेट में लोगो को ज्यादा खाना खा जाते है लेकिन डार्क कलर की प्लेट में खाना कम लेने पर भी ज्यादा दिखता है।

रॉ फूड डाइट

रॉ फूड डाइट में प्लांट बेस्ड फूड डाइट ली जाती है जिसे 46 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पकाया या गर्म नहीं किया जाता है। ये रॉ फूड खासतौर से ऑर्गेनिक होता है  लेकिन इस तरह के ट्रेंड लोग हमेशा नहीं फॉलो कर पाते हैं।

Also Read:

सर्दियों में च्यवनप्राश खाने के 10 बेमिसाल फायदे

नाईट क्रीम लगाने के असरदार फायदे

कैसे घर की छोटी छोटी चीजें डालती है किस्मत पर असर?

सर्दियों के मौसम में पाए जोड़ो के दर्द से राहत! रखे इन 5 बातों का ध्यान

Like and Share Our Facebook Page.

Latest Article

 Back to Top