जूतों की ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ध्यान दें इन जरूरी बातों पर

जूतों की ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ध्यान दें इन जरूरी बातों पर

जैसा की हम सब जानते है कि आजकल ऑनलाइन शॉपिंग बहुत प्रचलित हो चुकी है।  ऑनलाइन शॉपिंग सबसे आसान तरीका है जिससे हम कोई भी वास्तु घर बैठे पा  सकते है। इसमें सबसे अछी बात यह है की हमें एक ही चीज़ की इतनी वैरायटी देखने को मिलती है। हमें इससे आसानी होती है की हम इतने सरे विकल्प में से एक चुन सकते है। और वह चीज आपके पास आ जाती है।  लेकिन ऑनलाइन शॉपिंग में बहुत सी  दिक्कतें भी हैं, खासतौर पर फुटवियर की खरीददारी के समय। ऑनलाइन फुटवियर खरीदना इतना आसान काम नहीं है। इसलिए आज हम आपके लिए शूज खरीदने के कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं। तो आइये जानते है इन टिप्स के बारे में।

सही साइज का चुनाव

ऑनलाइन शूज खरीदते  समय सबसे बड़ी समस्या आती है सही साइज की। इसलिए साइज से जुड़ी गाइडलाइन पर हमेशा ध्यान देना चाहिये। क्योकि हर ब्रांड के साथ देश के हिसाब से भी जूतों के साइज में फर्क होता है। इसके लिए हर ब्रांड की साइज नापने की जो गाइडलाइन होती है उसे ध्यान से पढ़ें।

फैशन नहीं कंफर्ट पहले देखें

ऑनलाइन शूज की शॉपिंग में आपके पास बहुत वैराइटीज  देखने को मिलती है। लेकिन आपको ऐसे फुटवियर लेना चाहिये जो आपके पैरों को सबसे ज्यादा सूट करें। जिसमे आप कम्फर्टबल फील करते हो। शूज खरीदते समय फैशन से ज्यादा कंफर्ट का ध्यान रखें।

प्रॉडक्ट स्पेसिफिकेशन

ऑनलाइन शॉपिंग करने से पहले यह जान लें कि आप जो जूते खरीद रहे हैं उसका मटीरियल, ऊंचाई, आपके लिए कम्फर्टेबल है या नहीं। यदि आपके मन में उस  प्रॉडक्ट को लेकर किसी भी प्रकार की कोई आशंका है तो खरीदने से पहले कस्टमर केयर में बात करें।

पहले घर पर ही करें ट्रायल

ऑर्डर आ जाने पर आप पहले घर में चलकर पूरी तरह से परख लें। कुछ दिक्कत आती है तो इसे आप वापस कर सकते हैं। सड़क पर जाने से फुटवियर गंदे होने का दर रहता है और वापस करने में भी दिक्कत आ सकती है।

रिव्यू भी देखें

ऑनलाइन शॉपिंग करते समय कस्टमर के रिव्यू और प्रोडक्ट की रेटिंग जरूर देखें। इसमें दिये गए रिव्यू कस्मर के द्वारा ही दिये गए होते है। जो इससे सतुंष्ट या फिर असतुंष्ट रहते है।इससे हमें आसानी होगी की हम वह प्रोडक्ट ले या नहीं।

कंपनी की शर्तों को ढंग से समझें

ऑनलाइन शॉपिंग में अक्सर कंपनियां 500  रु. से ज्यादा की खरीदारी पर फ्री डिलिवरी का ऑफर देती हैं। जिससे कस्टमर इसे फायदेमंद मानता है। लेकिन इसमें फ्री डिलिवरी के साथ ही कुछ शर्तें भी लिखी रहती हैं, जिन पर कस्टमर ध्यान नहीं देते और जिसकी वजह से बाद में आपको अतिरिक्त कीमत चुकानी पड़ती है। जानकारी के लिये बता दें कि ये वो चार्ज होते हैं जो कस्टमर को लुभाने के लिए शुरू में बताए ही नहीं जाते।

Like & Share: @roundbubble

Latest Article

 Back to Top