कब मनाएगे धनतेरस? जानिए पूजा करने की विधि और शुभ मुहूर्त

कब मनाएगे धनतेरस? जानिए पूजा करने की विधि और शुभ मुहूर्त

इसी हफ्ते धनतेरस का त्यौहार आने वाला है। पांच पर्वो वाली दिवाली की शुरुआत धनतेरस के दिन से ही हो जाती है। धन तेरस ऐसा त्यौहार जिस दिन महालक्ष्मी के सचिव कुबेर की पूजा होती है। जब कुबेर का वरदान मिलता है तो घर में अपार धन के भण्डार लग सकते है। कुबेर के पूजन के लिए धनतेरस वाले दिन ही कई तरह के उपाय भी किये जाते है। एवं धनतेरस के दिन ही शाम को परिवार की मंगलकामना के लिए यम नाम का दीपक भी जलाया जाता है।

धनतेरस वाले दिन अलग अलग तरह की धातुओं से बने हुए बर्तन, सोना, चांदी खरीदने का बहुत महत्व होता है। धनतेरस एक ऐसा दिन है जिस दिन धातु का सामन खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है। पौराणिक समय से ऐसी मान्यता है कि अगर धनतेरस के दिन के समय या संध्याकाल में अगर खरीदारी की जाए तो हर मनोकामना बहुत जल्दी पूरी हो सकती है।

क्यों मनाया जाता है धनतेरस का त्योहार?

 जैसा की हम जानते है कि धनतेरस कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन मनाया जाता है।  ऐसी मानता है कि धनतेरस के दिन समुंद्र मंथन के दौरान  अमृत का कलश लेकर धनवंतरी प्रकट हुए थे। तब से लेकर अब तक इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाता है। पौराणिक समय से और धार्मिक समय से ऐसी मान्यता है कि धनवंतरी के प्रकट होने के ठीक दो दिन बाद में ही लक्ष्मी माता प्रकट हुई थी। इसी वजह से हर बार दिवाली से ठीक दो दिन पहले ही धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है।

धनतेरस के दिन स्वास्थ्य रक्षा के लिए धनवंतरी देव की उपासना की जाती है। एवं इस दिन कुबेर को भी माना जाता है और धन संपन्नता के लिए कुबेर की पूजा की जाती है।

धनतेरस पर पूजा करने का शुभ मुहूर्त

धनतेरस पूजा मुहूर्त:- शाम 07:08 बजे से रात 08:14 बजे तक

अवधि:- 1 घंटा 06 मिनट

प्रदोष काल: शाम 05: 39 से 08:14 तक

धनतेरस पर कैसे करें पूजा?

धनतेरस के दिन शाम के समय उत्तर की ओर कुबेर एवं धनवंतरी की स्थापना करनी चाहिए। दोनों के सामने एक एक मुख का घी का दीपक जरूर जलाना चाहिए। इस दिन कुबेर जी को सफ़ेद मिठाई और धनवंतरी को पीली मिठाई चढ़ाना भी बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन सबसे पहले “ॐ ह्रीं कुबेराय नमः” का जाप करना चाहिए। जब यह करलो उसके बाद में धनवंतरी स्त्रोत का पाठ करने से बहुत लाभ होता है।

जब पूजा हो जाए उसके बाद में दीपावली पर कुबेर को धन स्थान पर और धनवंतरी को पूजा स्थान पर स्थापित करे।

कौन से उपाय करने से मिलेगा लाभ?

धनतेरस के दिन धन्वंतरि का पूजन करना चाहिए।  इसी के साथ में नवीन झाड़ू एवं सूपड़ा खरीदकर भी उनकी पूजा करनी चाहिए। धनतेरस के दिन दीपक प्रज्वलित करके घर, दूकान आदि जगहों को श्रृंगारित करना भी बहुत फलदायी साबित होता है। इस दिन लोग मंदिर, गोशाला, नदी के घाट, कुओं, तालाब एवं बगीचों में भी दीपक जलाए।

धनतेरस के दिन क्या ख़रीदे?

  • धातु का बर्तन या फिर पानी  बर्तन हो तो भी अच्छा रहेगा।
  • खीले बताशे और मिट्टी के दीपक, एक बड़ा सा दीपक भी जरूर ख़रीदे।
  • धन का कोई भी यन्त्र ख़रीदे चाहे तो वह अंको से ही बना हुआ हो।
  • यथाशक्ति तांबे, पीतल, चांदी के गृह उपयोगी नवीन बर्तन और जेवर खरीदना भी बहुत शुभ माना जाता है।

Also Read:

10 Online Shopping Tips to Save Money

5 Easy Tips To Save Your Marriage To Avoid Divorce

Offer Water to Trees According to Zodiac Signs

दिल्ली से लेकर यूपी तक डेंगू का हमला, जाने इस खतरनाक बीमारी से कैसे बचे

Like & Share: @roundbubble

Latest Article

November 8, 2019 3:54 pm
 Back to Top