Festivals

Ganesh Visarjan 2023 : अनंत चतुर्दशी पर इन शुभ मुहूर्त में बप्पा को करें विदा, जानें कल के गणेश विसर्जन मुहूर्त

Ganesh Visarjan 2023

गणेश चतुर्थी का त्योहार भारतीय संस्कृति में एक खास धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व रखता है। इस त्योहार के दौरान हम गणेश बप्पा के आगमन का स्वागत करते हैं और उनकी पूजा-अर्चना करते हैं। यह त्योहार आत्मा की शुद्धि, समृद्धि, और सौभाग्य की प्रतीक होता है। हालांकि गणेश चतुर्थी का महत्व बड़ा ही है, उसके बाद भी इसका अविसर्जन अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। इस लेख में, हम आपको गणेश विसर्जन के शुभ मुहूर्त 2023 के बारे में जानकारी देंगे, ताकि आप इस महत्वपूर्ण क्षण को ध्यानपूर्वक मना सकें।

गणेशविसर्जन: एक महत्वपूर्ण धार्मिक प्रक्रिया

गणेश चतुर्थी के पश्चात्, गणेश बप्पा का विसर्जन किया जाता है। इस प्रक्रिया को अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि इसके माध्यम से हम भगवान गणेश को उनके लोक वापस भेजते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। इस दिन, गणेश बप्पा की मूर्तियों को झूला पर बिठाया जाता है और विसर्जन के लिए तैयारी की जाती है।

अनंत चतुर्दशी: गणेश विसर्जन का महत्व

गणेश विसर्जन का महत्वपूर्ण तिथि होती है, जो अनंत चतुर्दशी के रूप में जानी जाती है। यह तिथि हिन्दू पंचांग में भगवान विष्णु के अवतरण के रूप में मानी जाती है और इसके साथ ही गणेश बप्पा का विसर्जन भी किया जाता है। यह दिन गणेश बप्पा के प्रतिष्ठापन के 10 दिन बाद आता है, जिसके दौरान वे हमारे बीच होते हैं और हमारे जीवन में आपने आशीर्वाद और खुशियों का संचालन करते हैं। गणेश विसर्जन के दिन भगवान विष्णु की पूजा और व्रत करने से श्रेष्ठ फल प्राप्त होता है और भगवान गणेश का विसर्जन भी शुभ माना जाता है।

शुभ मुहूर्त: गणेश विसर्जन के लिए आदर्श समय

गणेश विसर्जन के लिए योग्य समय की जानकारी होना अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह समय भगवान को प्राप्त होने वाले आराधक के लिए शुभ फल और सुख की प्राप्ति कराता है। इसलिए, गणेश विसर्जन के लिए शुभ मुहूर्त का अध्ययन करना बहुत महत्वपूर्ण है। नीचे हम आपको कुछ शुभ मुहूर्त 2023 के बारे में बताएंगे:

1. पूर्वाह्ण मुहूर्त (Morning Muhurat): पूर्वाह्ण काल में गणेश विसर्जन करना अत्यंत शुभ माना जाता है। इस मुहूर्त का आरंभ सुबह 6:30 बजे से होकर शाम 7:45 बजे तक रहता है। यह समय भगवान गणेश का विसर्जन करने के लिए अद्वितीय होता है और भगवान के आशीर्वाद को प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है।

2. मध्याह्न मुहूर्त (Afternoon Muhurat): अगर आप सुबह का समय नहीं उपयोग कर सकते हैं, तो मध्याह्न मुहूर्त भी उपयुक्त होता है। इस मुहूर्त का आरंभ दोपहर 12:30 बजे से होता है और शाम 1:45 बजे तक रहता है।

3. अपराह्न मुहूर्त (Evening Muhurat): इस मुहूर्त का आरंभ शाम 3:15 बजे से होकर रात 4:30 बजे तक रहता है। अगर आपके पास उपरोक्त दोनों मुहूर्त का समय नहीं है, तो यह समय भी गणेश विसर्जन के लिए उपयुक्त हो सकता है।

4. रात्रि मुहूर्त (Night Muhurat): यदि आपके पास दिन के समय में गणेश विसर्जन करने का विकल्प नहीं है, तो रात्रि मुहूर्त भी उपयुक्त हो सकता है। इस मुहूर्त का आरंभ रात 8:00 बजे से होकर सुबह 9:15 बजे तक रहता है।

अनंत चतुर्दशी का महत्व

अनंत चतुर्दशी गणेश विसर्जन के लिए एक महत्वपूर्ण तिथि है, लेकिन इसका महत्व धार्मिक और सांस्कृतिक दृष्टिकोण से भी है। इस दिन को भगवान विष्णु के अवतरण के रूप में मनाने के लिए जाना जाता है और इस दिन को अनंत पाद्मनाभ नामक देवता की पूजा के रूप में भी मनाया जाता है। इस तिथि पर विशेष रूप से अनंत नाग का पूजन किया जाता है, जिनका महत्वपूर्ण स्थान हिन्दू धर्म में है।

अनंत चतुर्दशी के दिन, लोग अपने पितरों की पूजा करते हैं और पितृ तर्पण करके उनके आत्माओं को शांति देते हैं। यह दिन भगवान विष्णु और अनंत नाग का विशेष पूजा करने के लिए भी जाना जाता है, जिन्हें शेष नाग भी कहते हैं।

गणेश विसर्जन की प्रक्रिया

गणेश विसर्जन की प्रक्रिया में विशेष धार्मिक और सांस्कृतिक रस्में होती हैं। इस प्रक्रिया को ध्यानपूर्वक और समर्पण से किया जाता है ताकि भगवान गणेश का विसर्जन समृद्धि और सौभाग्य लेकर आए। यहां कुछ मुख्य धार्मिक चरण और रस्में हैं:

1. गणेश बप्पा की पूजा: गणेश विसर्जन की प्रक्रिया की शुरुआत गणेश बप्पा की पूजा से होती है। गणेश बप्पा की मूर्ति को सजाकर उनकी पूजा और अर्चना की जाती है।

2. विसर्जन की तैयारी: गणेश बप्पा की मूर्ति को विसर्जन के लिए तैयार किया जाता है। इसके लिए उनकी मूर्ति को झूला पर बिठाया जाता है और उनके साथ फूल, पुष्पाहार, और दीपक साथ लिए जाते हैं।

3. विसर्जन के लिए निकलना: गणेश बप्पा की मूर्ति को विसर्जन के लिए लेकर निकला जाता है। इसके दौरान भक्त गणेश जी के गीत गाते हैं और उनकी पूजा करते हैं।

4. गणेश विसर्जन: गणेश बप्पा की मूर्ति को जल में विसर्जित करने का अद्वितीय रिटुअल होता है। इसके दौरान मंगलवार और बुधवार को विसर्जन करना शुभ माना जाता है। मूर्ति को तैयार किए गए बाड़े के पास ले जाते हैं और विसर्जन के समय उनके पास वापस ले जाते हैं। विसर्जन के दौरान लोग भगवान गणेश के नाम पर आरती उतारते हैं और उनके आशीर्वाद की प्रार्थना करते हैं।

5. विसर्जन के बाद: गणेश विसर्जन के बाद, लोग अपने घरों में गणेश जी की पूजा करते हैं और उनका स्वागत करते हैं। यह एक नई श्रृंगारिक वस्त्र, फूल, और पुष्पाहार के साथ होता है।

गणेश विसर्जन के त्योहार: एक धार्मिक और सांस्कृतिक मेला

गणेश विसर्जन के दिन कई स्थानों पर धार्मिक और सांस्कृतिक मेले आयोजित होते हैं। इन मेलों में लोग विभिन्न प्रकार की परिक्रमाएँ करते हैं और गणेश जी की मूर्तियों को साझा करते हैं। यहां कुछ महत्वपूर्ण धार्मिक और सांस्कृतिक मेले हैं:

1. लालबागच्या राजाच्या सरकारणी: मुंबई में लालबागच्या राजाच्या सरकारणी मेला एक प्रमुख आयोजन होता है, जिसमें लाखों लोग भाग लेते हैं। यहां पर गणेश जी की विशाल मूर्ति का विसर्जन किया जाता है और मेले में विभिन्न प्रकार की खासियतें होती हैं।

2. दगडूशेठ हलवाई गणपती: पुणे में दगडूशेठ हलवाई गणपती मेला भी एक महत्वपूर्ण आयोजन होता है। यहां पर गणेश जी के बहुत सारे अनुष्ठान और पूजा-अर्चना का आयोजन किया जाता है और भक्त गणेश जी के साथ समय बिताते हैं।

3. सिद्धिविनायक मंदिर: मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में भी गणेश विसर्जन का आयोजन होता है। यहां पर भक्त गणेश जी के दर्शन करते हैं और उनके आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करते हैं।

समापन

गणेश विसर्जन एक अद्वितीय और धार्मिक प्रक्रिया है जो हमें भगवान गणेश के आशीर्वाद को प्राप्त करने का अवसर प्रदान करती है। इस त्योहार को ध्यानपूर्वक मनाने से हमारे जीवन में समृद्धि, सौभाग्य, और खुशियाँ आती हैं। इसलिए, गणेश विसर्जन के शुभ मुहूर्त का पालन करके हम इस धार्मिक प्रक्रिया को सफलता से पूरा कर सकते हैं और भगवान गणेश के आशीर्वाद को प्राप्त कर सकते हैं।

इस गणेश विसर्जन 2023 में, अपने दिल की गहराइयों से भगवान गणेश की पूजा करें और उनके आशीर्वाद को प्राप्त करें। गणेश बप्पा को विदा करते समय उनका आभार और प्रेम दिखाएं और उनके साथ आदरणीय यात्रा का आनंद लें।

!! गणपति बाप्पा मोरया! मंगलमुर्ति मोरया !!

Related posts

इस बार का करवा चौथ है बहुत खास! जाने कैसे?

roundbubble

इस दिवाली अपने घर की खूबसूरती को बढ़ाए, ऐसे सजाए अपने सपनो का आशियाना 

roundbubble

रंगों के त्यौहार में ऐसे रखें अपनी सेहत का ध्यान

roundbubble

Leave a Comment