आखिर क्यों रोई पठान सिस्टर्स?

आखिर क्यों रोई पठान सिस्टर्स?

बिग बॉस सीजन 12 में सोमवार के एपिसोड में घर में दो वाइल्डकार्ड एंट्री हुई थी। सोमवार को पहली वाइल्ड कार्ड एंट्री थी रोहित सुचांती और उसी दिन दूसरी वाइल्ड कार्ड एंट्री थी मेघा धाड़े। दोनों ने घर में आते ही बखूबी गेम खेलना चालु कर दिया है। मेघा धाड़े घर वालो को एक दूसरे के प्रति भड़काने में कामयाब हो रही है।  वही दूसरी और रोहित अपनी स्ट्रेटेजी में कामयाब होते नज़र आए कॅप्टेन्सी टास्क में।

आखिर कैसे करना था कॅप्टेन्सी की रेस से बहार कंटेस्टेंट्स को?

बिग बॉस गार्डन एरिया को पॉल्ट्री फार्म में बदला गया था इस टास्क के लिए। कुछ घरवाले इस गेम में दूकानदार की भूमिका निभा रहे थे। वही दूसरी और कुछ घरवाले पोल्ट्री फार्मर की भूमिका निभा रहे थे। वही गार्डन एरिया में एक मुर्गी भी राखी गयी थी , जो की समय समय पे एक अंडा देगी।  जो भी पोल्ट्री फार्मर वह अंडा लेकर दुकानदार को देगा। तो वह अपनी मर्जी के हिसाब से किसी भी

विरोधी का पुतला मांग सकता था। और वो उस पुतले को नष्ट कर सकते थे।  इसी प्रकार पोल्ट्री फार्मेस का एक एक करके सभी पुतले नष्ट होते रहते है।  और जिसका भी अंत में पुतला बचेगा वो कॅप्टेन्सी का दावेदार होगा या होगी।

लक्ज़री बजट कार्य

मंगलवार के एपिसोड में बब पोल्ट्री फॉर्म की वजह से कंटेस्टेंट्स के बीच काफी शोर गुल का माहौल बना दिया था।  यह एक लक्ज़री बजट कार्य था जिसका सीधा असर घर की कॅप्टेन्सी पे भी पड़ना था।इसी टास्क के दौरान कॅप्टेन्सी के लालच के चलते दीपक और उर्वशी के बीच भी बहुत दरार आ गयी थी।कलर्स टीवी ने एक प्रोमो जारी किया जिसमे दखने को मिला की रोहित और दीपक ने सोमी को कॅप्टेन्सी के टास्क से हटाने  की पूरी स्ट्रेटेजी बना ली है।

स्ट्रेटेजी का शिकार हुई सोमी और सबा

इस स्ट्रेटेजी के चलते सोमी और सबा को कॅप्टेन्सी टास्क में फिर से धोखा खाना पड़ता है। और इसी देखे के कारण दोनों बहने बहुत रोती है। दोनों बहने सोमी और सबा खान दीपक पर बरस जाती है।  काफी कहा सुनी होती है तीनो कंटेस्टेंट्स के बीच।  दीपक का कहना है कि सोमी और सबा इमोशनल कार्ड खेल रही है।  जैसे ही यह लक्ज़री बजट कार्य समाप्त होगा। सोमी और सबा ने तय किया है की वह दोनों दीपक को नज़र अंदाज़ करेगी।  ऐसा प्रिटेंड करेगी की दीपक उनके लिए एक्सिस्ट ही नहीं करता है।इस इंसिडेंट के बाद मेघा, सबा से जाकर बात करती है और उन्हें आश्वासन दिलाती है की वह दीपक को कप्तान नहीं बनने देगी।

Tags:
 Back to Top