गम में डूब गया था उज्जैन उन्हेल मार्ग, जब एक साथ निकली 12 लाशें

गम में डूब गया था उज्जैन उन्हेल मार्ग, जब एक साथ निकली 12 लाशें

यह बात मध्यप्रदेश के उज्जैन उन्हेल मार्ग की है।  जहा पर सोमवार की रात बारह बजे वैन कार की टक्कर में मृत बारह लोगो को मंगलवार दोपहर एक साथ अंतिम संस्कार किया।  जब शहर में बारह अर्थिया एक साथ निकली तो सभी की आंखें बहुत ही ज्यादा नम थी।

इन सभी को अंतिम विदाई देने के लिए सांसद, विधायक कलेक्टर, कमिश्नर समेत बहुत ही बड़ी संख्या में लोग चक्रतीर्थ मुक्तिधाम पहुंचे थे।हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हादसे पर दुःख जताते हुए मृतकों के परिजनों को दो दो लाख रूपए की आर्थिक रूप से सहायता राशि देने की घोषणा की है।  इस हादसे के बारे में बताया जा रहा है कि यह हादसा इतना भयानक था कि एक बच्ची का पोस्टमाटम करते हुए डॉक्टर के हाथ काँप उठे थे।

कहा जा रहा है कि इस हादसे की शिकार दो साल की बच्ची भी हुई है उसका नाम सिद्धि था।  उस बच्ची की आते बाहर आ गयी थी और पसलिया टूट गयी थी।इस हादसे में एक 13 साल की बच्ची सलोनी का सिर फट गया है।  उसके दिमाग का हिस्सा बाहर लटक रहा था। अन्य दस सदस्यों की भी ऐसी ही दर्दनाक मौत हुई है।

शहर में निकली एक साथ बारह अर्थियां

प्रारम्भिक जांच के दौरान डॉक्टर ने कहा की अधिकाँश मौत सर के ऊपर गंभीर चोट लगने की वजह से, पसली टूटने व फेफड़ों में गहरी चोट लगने से हुई है। सभी की मौके पर ही मौत हो गई थी। मौके पर माहौल बहुत ही गमगीन हो गया था। बच्ची सिद्धि का शव उसके पिता राहुल अपनी गॉड में लेकर बिलखते हुए चल रहे थे। हादसे में एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत हो गई।

इनमें केबल ऑपरेटर अर्जुन कायत, उनकी पत्नी राजूबाई, बेटा शुभम और दो बेटियां रवीना और बुलबुल शामिल हैं. ये सभी तिलकेश्वर क्षेत्र में रहते थे।मध्य प्रदेश के उज्जैन ज‍िले में भयानक हादसा हुआ है। वैन से लोग शादी से लौट रहे थे।  तभी फुल स्पीड से आती हुई कार ने वैन को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जोरदार थी क‍ि वैन 50 फीट दूर जाकर रुकी। इस हादसे में 3 बच्चों सहित 12 की मौत हो गई थी।

ये हादसा सोमवार रात करीब 12 बजे हुआ था। मरने वालों में उज्जैन के महेश नगर, नगरकोट और तिलकेश्वर के रहवासी हैं और उनके रिश्तेदार थे।

 

 Back to Top