अचानक गर्भावस्था के साथ कैसे समझौता करें

अचानक गर्भावस्था के साथ कैसे समझौता करें

“गर्भावस्था”, एक शादीशुदा जोड़े के लिए जीवन का सबसे खुशी का पल होता है। जो जोड़े के जीवन में बेहद खुशियाँ लाता है। लेकिन अगर हम अप्रत्याशित गर्भावस्था की बात करे तो यह एक अलग और उलझन वाली परिस्थिति होती है, मानो दम्पति को रास्ते में अचानक कोई बच्चा मिल गया। अब बात यहां आती है की अप्रत्याशित गर्भावस्था से कैसे समझौता करें।

कई बार दम्पति अचानक गर्भावस्था से निराश  हो जाते है।  वो खुद को और बच्चे को कोसने लगते  है।  शायद हो सकता है वो माता-पिता होने के लिए तैयार नहीं।  अगर आप जीवन के इस कठोर दौर से गुजर रहे हो तो  आप अपने पार्टनर के साथ समय बिताये और अनुभव  का  साँझा करे।  अपने पार्टनर के साथ ईमानदारी के साथ बात करे, अपनी समस्या और अप्रत्याशित गर्भपात के डर को दूर करे।  हो सकता है आपका पार्टनर बच्चे की जिम्मेदारी से मुँह मोड़ रहे या जिम्मेदारियों से भय भीत हो रहे हो।  इसलिए अपने पार्टनर से बात कर के अपने और अपने पार्टनर के भय को दूर करना चाहिए, साथ ही आने वाली नई परिस्थिति से मुकाबला करने का हौसला लाये।

अध्ययनों से पता चलता, कि जो जोड़े आश्चर्यजनक गर्भावस्था के आधार पर परिवारों को शुरू करते है वो अक्सर अपनी लाइफ में कई  बड़े एडजस्टमेंट करते है जैसे की वे अपने नए निर्णय के लिए प्रतिबद्ध करते है।   हो सकता है आपकी  भी कई प्लानिंग हो , और गर्भावस्था के कारण आपको वो  प्लानिंग रद्द करनी पड़े।  लेकिन आप अपने पार्टनर के साथ इस समस्या से  समझौता करे।  और अपने माता -पिता होने के लिए तैयार रहे।

एक अनुसंधान के अनुसार, सबसे ज्यादातर अप्रत्याशित गर्भावस्था प्रथम तीन महीने के अंदर होती है।  हालाँकि हर दम्पति इस समस्या से नहीं गुजरते है। अगर आप इस समस्या से गुजर रहे है तो आपको धैर्य के साथ काम लेना चाहिए।

Tags:
 Back to Top